Take a fresh look at your lifestyle.

Rohini Vrat 2024 | 16 मार्च को है जैन समुदाय का महत्त्वपूर्ण त्यौहार ‘रोहिणी व्रत’, इन बातों का रखें विशेष ध्यान

0




Rohini Vrat 2024, Jain Community

रोहिणी व्रत 2024 (सोशल मीडिया)

Loading

सीमा कुमारी

नवभारत लाइफस्टाइल डेस्क: जैसा कि आप सभी जानते है त्योहार हमारे जीवन को खुशियों से भर देते हैं और आगे बढने की प्रेरणा देते हैं। साथ ही इस बात का संदेश भी देते हैं कि धर्म व ईश्वर से जुड़े रहना कितना अधिक आवश्यक है। और एक ऐसा ही महत्वपूर्ण व्रत-त्यौहार है ‘रोहिणी व्रत’। इस साल मार्च महीने की रोहिणी व्रत (Rohini Vrat 2024) 16 मार्च 2024, शनिवार को किया जाएगा।  

जैन समुदाय (Jain Community) में रोहिणी व्रत महत्वपूर्ण व्रत में से एक है। इस व्रत को मुख्य रूप से महिलाओं द्वारा अपने पति की दीर्घायु के लिए किया जाता है। साथ ही यह भी माना जाता है कि जो भी व्यक्ति इस व्रत को पूरी श्रद्धा से करता है उसके जीवन से सभी प्रकार से दुख दूर हो जाते हैं। ऐसे में आइए जानें रोहिणी व्रत से जुड़े कुछ रोचक बातें।

हिंदू धर्म में रखता है विशेष महत्व 

जैन धर्मगुरु के अनुसार, रोहिणी व्रत का जैन धर्म में ही नहीं बल्कि हिंदू धर्म में भी विशेष महत्व रखता है। हिंदू धर्म में इस व्रत का संबंध माता लक्ष्मी से माना जाता है, तो वहीं, जैन धर्म में दिन भगवान वासु स्वामी की पूजा का विधान है। रोहिणी व्रत जैन समुदाय के प्रमुख व्रतों में से एक माना जाता है। मान्यताओं के अनुसार इस व्रत को करने से महिलाओं को अखंड सौभाग्य का आशीर्वाद प्राप्त होता है।

यह भी पढ़ें

व्रत के दौरान इन बातों का रखें ध्यान

  • रोहिणी व्रत के दिन स्वच्छता और शुद्धता का पूरा ख्याल रखना चाहिए।
  • रोहिणी व्रत का पालन रोहिणी नक्षत्र के दिन से शुरू होकर अगले नक्षत्र मार्गशीर्ष तक किया जाता है।
  • इस व्रत पर भगवान वासु स्वामी की पंच रत्न, ताम्र या स्वर्ण प्रतिमा या तस्वीर स्थापित करनी चाहिए।
  • सूर्यास्त के बाद किसी प्रकार का भोजन करना रोहिणी व्रत में वर्जित माना जाता है।
  • रोहिणी व्रत का पालन लगातार 3, 5 या 7 वर्षों में तक करना चाहिए।
  • व्रत के दिन गरीबों में खाना, कपड़ा आदि का दान करना चाहिए। ऐसा करने से भौतिक सुखों की वृद्धि हो सकती है।
  • रोहिणी व्रत का समापन उद्यापन के द्वारा ही किया जाना चाहिए, क्योंकि बिना उद्यापन के बिना यह व्रत अधूरा माना जाता है।




Leave A Reply

Your email address will not be published.