Take a fresh look at your lifestyle.

Ramadan 2024 | हफ्ते के पहले 36 घंटों के उपवास को अनुशासन मानते है PM सुनक, जानिए रमजान में रोजे रखने से क्या मिलते हैं लाभ

0




Ramadan 2024, Lifestyle News

डिजाइन फोटो

Loading

नवभारत लाइफस्टाइल डेस्क: जब स्वास्थ्य और कल्याण (Health) की बात आती है, तो ऐसा लगता है कि भोजन करते हुए संयम बरतना इसका महत्वपूर्ण घटक है। आप जहां भी देखें, ब्रिटेन के प्रधान मंत्री ऋषि सुनक से लेकर थॉर स्टार क्रिस हेम्सवर्थ जैसी हॉलीवुड हस्तियों तक, हर कोई मन और शरीर के लिए उपवास के गुणों की प्रशंसा करता नजर आता है। 

36 घंटों का उपवास है अनुशासन

रिपोर्टों के अनुसार, सुनक प्रत्येक सप्ताह के पहले 36 घंटों के उपवास को ‘‘एक महत्वपूर्ण अनुशासन” मानते हैं, जबकि हेम्सवर्थ ने अपनी 2023 टीवी श्रृंखला, लिमिटलेस के लिए चार दिनों के चरम उपवास के माध्यम से ‘‘अपने शरीर की बुढ़ापे-विरोधी शक्तियों को जागृत करने” का प्रयास किया। आंतरायिक उपवास भी वजन प्रबंधन का एक लोकप्रिय रूप बन गया है।

कुछ योजनाएं, जैसे कि फिल्म स्टार क्रिस प्रैट द्वारा लोकप्रिय डैनियल फास्ट, आध्यात्मिक और साथ ही शारीरिक लाभ प्रदान करने के लिए धार्मिक हस्तियों के आहार व्यवहार का पालन करने का दावा करती हैं। लेकिन, पिछले कुछ वर्षों में आंतरायिक उपवास के व्यापक कवरेज के बावजूद, धार्मिक उपवासों पर समान स्तर का ध्यान नहीं दिया गया है। क्या किसी धार्मिक उपवास का पालन करने से स्वास्थ्य और खुशहाली के लिए उपवास करने के समान या उससे भी अधिक स्वास्थ्य लाभ होते हैं? 

रमज़ान और लेंट के उपवास के स्वास्थ्य लाभ 

2024 और 2025 में, रमज़ान और ईसाई लेंट की अवधि एक दूसरे के साथ ओवरलैप होती है।रमज़ान मुसलमानों के लिए उपवास की अवधि है, जबकि लेंट कई ईसाइयों, विशेष रूप से रूढ़िवादी संप्रदायों के लिए संयम की अवधि है। हालाँकि, धार्मिक उपवासों की प्रकृति भिन्न-भिन्न होती है। रमज़ान के दौरान, उपवास समय-प्रतिबंधित भोजन का एक रूप है – अनुयायियों को सुबह और शाम के बीच सभी भोजन और पेय से बचना चाहिए। जबकि, रूढ़िवादी ईसाई उपवास प्रथाएं पूर्ण उपवास के बजाय आहार से सभी पशु उत्पादों और वसा के स्रोतों को बाहर करने पर ध्यान केंद्रित करती हैं।

यह भी पढ़ें

दिल के खतरों को कम करते है उपवास 

सहकर्मियों के साथ, मैंने विभिन्न धार्मिक और आस्था-आधारित उपवासों के संभावित स्वास्थ्य प्रभावों का पता लगाया। केवल मुस्लिम और रूढ़िवादी ईसाई समुदायों से प्रकाशित आंकड़ों की एक व्यवस्थित समीक्षा करके, हमारे हालिया विश्लेषण से पता चला है कि दोनों उपवास दृष्टिकोण हृदय संबंधी जोखिम में कमी के साथ जुड़े हुए हैं – हालांकि अलग-अलग कारणों से।

रमज़ान के दौरान उपवास करने से रक्तचाप और शरीर के वजन में उल्लेखनीय कमी देखी गई, जबकि रूढ़िवादी ईसाइयों के बीच लेंट के दौरान उपवास करने से कोलेस्ट्रॉल में कमी के साथ महत्वपूर्ण संबंध दिखा।

रोजे रखने से सेहत पर क्या होता है प्रभाव

रमज़ान के रोज़े रखने वालों में निम्न रक्तचाप दिन के दौरान न खाने या पीने का प्रभाव हो सकता है, जिससे इंसुलिन का स्तर कम हो सकता है जो सहानुभूति तंत्रिका तंत्र पर काम कर सकता है और साथ ही रक्त की मात्रा भी कम कर सकता है। वनस्पति-आधारित उपवास का पालन करने वाले रूढ़िवादी ईसाई अपने सामान्य आहार की तुलना में वसा का सेवन अमूमन कम कर देते हैं और फाइबर बढ़ा देते हैं, जो कम कोलेस्ट्रॉल के साथ उनके लेंट उपवास के संबंध को समझा सकता है।

Ramadan Mubarak 2024 3

शायद यह आश्चर्य की बात नहीं है कि उपवास ऊर्जा सेवन को सीमित करते हैं, रमज़ान और लेंट दोनों के लिए उपवास भी वजन घटाने से जुड़े थे। हालाँकि, व्रत टूटने पर कम स्वस्थ भोजन और पेय के अधिक सेवन से इनमें से कुछ लाभ समाप्त हो सकते हैं। उपवास के लाभों को बनाए रखने के लिए, अनुयायियों को उच्च वसा, चीनी और नमक वाले खाद्य पदार्थ खाने से बचना चाहिए।

स्वास्थ्य देखभाल और धार्मिक प्रथाओं को संरेखित करना

हमारी समीक्षा से पता चलता है कि स्वास्थ्य पेशेवर लोगों को स्वस्थ जीवन शैली का समर्थन करने के लिए उपवास प्रथाओं सहित उनके विश्वास के पहलुओं का उपयोग करने में सहायता कर सकते हैं। इसमें रमज़ान से पहले इमामों और मस्जिद समुदायों जैसे आस्था सक जुड़े नेताओं के साथ काम करना शामिल हो सकता है, ताकि रोज़ा तोड़ने के लिए स्वस्थ इफ्तार भोजन का पता लगाया जा सके।

आध्यात्मिक विकास और पहचान के साथ-साथ शारीरिक स्वास्थ्य में सुधार के लिए, धार्मिक अभ्यास के हिस्से के रूप में आत्म-देखभाल को बढ़ावा देने के लिए आस्था के पहलुओं का उपयोग करना भी संभव हो सकता है। उदाहरण के लिए, धार्मिक नेता स्वास्थ्य और सामाजिक संपर्क को बढ़ावा देने के लिए उपवास अवधि के बाहर स्वस्थ सामुदायिक भोजन को प्रोत्साहित कर सकते हैं। 

उपवास के है अलग-अलग मायने

शोध ने सुझाव दिया है कि आस्थावान लोग वजन प्रबंधन सहित कई प्रकार के उपायों से अधिक सकारात्मक स्वास्थ्य परिणामों का आनंद लेते हैं। यह कम से कम आंशिक रूप से विश्वास से जुड़े स्वास्थ्य हस्तक्षेपों के सांस्कृतिक रूप से अधिक उपयुक्त होने और मरीजों की मान्यताओं और विचारों के साथ संरेखित होने के कारण हो सकता है।

उदाहरण के लिए, शोध धार्मिकता और आत्म-नियंत्रण के बीच संबंध का सुझाव देता है, जो खाने के पैटर्न पर सकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। स्वास्थ्य कार्यक्रमों को रोगियों की आस्था की पहचान और प्रथाओं के अनुरूप बनाने से जुड़ाव और पालन बढ़ सकता है। 

अमेरिका में उपवास का होता है अलग महत्व 

उदाहरण के लिए, अमेरिका में, शोध ने धार्मिक सेवा में उपस्थिति को अधिक वजन घटाने से जोड़ा है। इसलिए, रमज़ान और लेंट, जब लाखों लोग उपवास करने के लिए अपने धार्मिक दायित्वों का पालन करते हैं, स्वास्थ्य पेशेवरों के लिए सांस्कृतिक रूप से समावेशी दृष्टिकोण विकसित करने के लिए आस्था समूहों के साथ काम करने का एक अच्छा समय हो सकता है।

इससे स्वास्थ्य व्यवहार में बदलाव की चुनौती से निपटने में मदद मिल सकती है, क्योंकि अगर लोग अपने विश्वास सहित व्यक्तिगत मूल्यों के साथ संरेखित हों तो सकारात्मक आदतों का पालन करने की अधिक संभावना होती है।  




Leave A Reply

Your email address will not be published.