Take a fresh look at your lifestyle.

Kids Care Tips | 10 साल की उम्र से पहले अपने बच्चों को ज़रूर सिखाएं सफ़ल जीवन के कुछ ‘ऐसे’ गुर, जो ज़िंदगी में आएंगे उनके काम

0




Kids Care Tips, Lifestyle News, Success Tips

प्रतीकात्मक तस्वीर

Loading

सीमा कुमारी

नवभारत लाइफस्टाइल डेस्क: ये बात सच है कि हर पेरेंट्स अपने बच्चों (Kids Care Tips) को अच्छी परवरिश देना चाहते हैं लेकिन आजकल के व्यस्त लाइफस्टाइल के चलते यह बहुत ही मुश्किल हो गया है। पेरेंट्स अपनी बिजी लाइफ के कारण बच्चों पर ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं।

हालांकि बच्चों को जो बचपन में सिखाया जाता है वह लाइफटाइम तक याद रखते हैं। ऐसे में 10 साल की उम्र तक उनकी लाइफ कुछ जरूरी चीजों को बदल देना चाहिए। ताकि इससे उनकी आगे की लाइफ में किसी भी तरह की दिक्कत ना हो।

आइए जानें उन चीजों के बारे में-

एक्सपर्ट्स के अनुसार, अपने बच्चे को छोटे-बड़े लोगों का सम्मान करना जरूर सिखाएं। इससे वे समाज में खुद भी इज्जत लेने लायक रहेंगे। वहीं, खासतौर पर उन्हें लड़कियों की इज्जत करना जरूर सिखाएं ताकी आगे चलकर वे लड़का-लड़की में भेद न करें।    

पर्सनल हाइजीन के बारे में भी 10 साल के बच्चों को बता देना चाहिए। क्योंकि आप हमेशा उनके साथ उनका ध्यान रखने के लिए नहीं होते हैं। ऐसे में आपको उन्हे बताना है कि वह स्कूल में भी हैं तो खुद से कैसे अपनी पर्सनल हाइजीन को मेंटेन कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें

10 साल की उम्र से पहले बच्चे को अनुशासन का पाठ जरूर पढ़ाएं जैसे कि सुबह समय पर उठना, समय पर खाना, समय पर सोना, पढ़ना, खेलना आदि।

यदि बच्चे कोई गलती करते हैं तो उन्हें डांटने फटकारने की जगह प्यार से समझाएं। इस उम्र में बच्चे इतने बड़े हो जाते हैं कि उन्हें अपने पेरेंट्स की कोई बात भी गलत लग सकती है। ऐसे में गुस्से से बातें समझाने की जगह उनके साथ प्यार से पेश आएं। यदि फिर भी वह कोई बात नहीं समझ पा रहे हैं तो उन्हें कोई उदाहरण देकर आप समझा सकते हैं।

एक्सपर्ट्स का मानना है कि, छोटे बच्चों को पैसों की अहमियत सिखाना बेहद जरूर हैं। छोटी उम्र में बच्चों के मन में पैसों को लेकर काफी लालच आ जाता हैं। इसके लिए उन्हें पॉकेट मनी दें और खर्चे का हिसाब रखना भी सिखाएं।

बच्चों को दूसरों से या अपने से बड़ों से कैसे बात करना है इसके बारे में आपको उन्हें 10 साल की उम्र तक सीखा देना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि कई बार हम बच्चों को इन चीजों के बारे में नहीं बताते हैं और वह किसी से भी बदतमीजी से बात करने लगते हैं।

उन्हें पढ़ाई का महत्व भी बताएं उनके लिए पढ़ाई क्यों करना जरूरी है इसके महत्व के बारे में 10 साल के उम्र तक बता देना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि यह समय ऐसा होता है जब बच्चों को काफी मन लगाकर पढ़ने की जरूरत होती है। बिजी लाइफ के साथ ही लाइफ काफी ज्यादा तेज भी हो गई है, ऐसे में आप अपने बच्चे को बाकी के बच्चे से पीछे नहीं देखना चाहती हैं, तो आपको इन चीजों पर ध्यान देने की जरूरत है।




Leave A Reply

Your email address will not be published.