Take a fresh look at your lifestyle.

Kids Care Tips | अपने नन्हें बच्चों के रोने की वजह पहचानिए आप, चुप कराने के लिए फॉलो करें ये खास टिप्स भी

0




Kids Care Tips, Lifestyle News

रोते बच्चे का कैसे रखें ख्याल (सोशल मीडिया)

Loading

सीमा कुमारी

नवभारत लाइफस्टाइल डेस्क: ये बात सच है कि मां-बाप बनना हर किसी की जिंदगी का यह अहम पड़ाव होता है। लेकिन बच्चे को संभालना एक जिम्मेदारी भरा काम होता है। नवजात शिशु या छोटे बच्चे अपनी परेशानी को बता नहीं पाते हैं, ऐसे में वह किसी भी समस्या पर रोना शुरू कर देते हैं।

इतना ही नहीं यदि बच्चे को किसी चीज की जरूरत भी होती है, तो भी वह रोकर ही अपनी बात मा-बाप से कहने का प्रयास करते हैं। इस समय माता-पिता के लिए बच्चे की परेशानी के सही कारणों को जान पाना बहुत ही मुश्किल हो जाता है। साथ ही अपने बच्चे को रोता हुआ देखकर घर के सभी लोग परेशान हो जाते हैं। ऐसे में रोते हुए बच्चे को शांत करने के पेरेंटिंग टिप्स अपना सकते हैं। तो आइए जानें आखिर क्या पेरेंटिंग टिप्स?

इन पेरेंटिंग टिप्स से रखें बच्चों का ख्याल

1- एक्सपर्ट्स के अनुसार, अक्सर आप सभी को ऐसा लगता है कि शिशु को थकान होने पर वह आसानी से कभी भी और कहीं भी सो जाते हैं, लेकिन कई बार ज्यादा थकान होने पर बच्चे सोने की बजाय रोना शुरू कर देते हैं। साथ ही थकान में नींद न आने की वजह से बच्चा परेशान हो जाता है। बच्चा जब जंभाई लेने लगे, आंख मसलने लगे, कानों को रगड़ने लगे या खेल में रुचि न लें तो आप समझ जाएं कि बच्चे या शिशु को नींद आ रही है।

2- आपको बता दें, बच्चे कई बार शारीरिक कष्ट की वजह से भी रोते हैं। पेट में दर्द, गैस या कान में होने वाला दर्द बच्चों को परेशान करता है। बच्चे जब बोलने लायक हो जाते हैं तो आप उनसे थोड़े से सवालों के जरिए पूछ सकते हैं कि उन्हें क्या तकलीफ है। कई बार बच्चे बहुत ठंड लगने या गर्मी लगने से भी रोने लगते हैं। इसलिए अपने आसपास के तापमान का भी ध्यान रखें।

यह भी पढ़ें

3- अपने बच्चे को प्यार से गले लगाएं। शारीरिक संपर्क से बच्चे को शांति मिलती है और वे जल्दी शांत हो जाते हैं।

4- कुछ बच्चों को गंदे डायपर को पहने रहना पसंद नहीं होता है। ऐसे में अपनी परेशानी को बताने और गंदे डायपर को बदलने के लिए बच्चे अक्सर रोना शुरू कर देते हैं। यदि बच्चा रो रहा हो तो ऐसे में आप चेक करें कि कहीं बच्चे का डायपर गंदा तो नहीं है। कई बार बच्चे पेशाब करने के बाद भी खुद को असहज महसूस करने लगते हैं। ऐसे में आपको रोते हुए बच्चे को शांत करने के लिए उसके डायपर को बदलना चाहिए।

5- एक्सपर्ट्स का मानना है कि, बच्चा अगर रो रहा है तो सबसे पहले जरूरी है कि उसके कारण को समझें। इसके साथ ही अपनी मानसिक स्थिति और मनोभावों को भी समझें। जैसे कि अगर बच्चा लगातार रो रहा है तो सबसे पहले खुद को शांत करें और गुस्सा ना करें। बच्चे से पूछें- ‘क्या वजह है जो उसे परेशान कर रही है।’

6- सबसे आखिर में अगर बच्चा छोटा है और चुप नहीं हो रहा तो उसे डॉक्टर के पास ले जाएं। कई बार फीवर और तबियत खराब होने की वजह से बच्चे जरूरत से ज्यादा रोते हैं।




Leave A Reply

Your email address will not be published.