Take a fresh look at your lifestyle.

Father should avoid 5 talks with daughter to make strong relationship

0


Relationship Tips for Father and Daughter: पिता और बेटी का रिश्ता काफी स्पेशल होता है. जहां बेटियां पापा की सबसे चहेती होती हैं, वहीं बेटियों के लिए पापा ही उनके सुपर हीरो होते हैं. ऐसे में पिता भी बेटी से सारी बातें शेयर करते हैं. लेकिन, क्या आप जानते हैं पिता को बेटी से कुछ बातें कभी नहीं करनी चाहिए? इससे ना सिर्फ बेटियों पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है, बल्कि आपके रिश्ते में भी दूरियां बढ़ सकती हैं.

पिता और बेटी अक्सर क्लोज फ्रेंड्स होते हैं. ऐसे में बेटियां पिता से हर बात बताती हैं. वहीं, पिता भी अक्सर बेटियों के सामने बेबाक होकर बातें करते हैं मगर पिता की कुछ बातें बेटियों को हर्ट भी कर सकती हैं, जिन्हें अवॉयड करके आप अपने रिश्ते को खराब होने से बचा सकते हैं.

बेटे से ना करें तुलना
पिता अक्सर बेटियों से बेटों की तरह बनने की अपेक्षा रखते हैं, जिसके चलते ज्यादातर फादर बेटियों की तुलना बेटों से करने लगते हैं. ऐसे में बेटी के अंदर हीन भावना पैदा हो सकती है, इसलिए बेटी से बेटों की तरह बनने की उम्मीद ना रखें.

ये भी पढ़ें: शादी के बाद सता रही है मायके की याद, ट्राई करें 3 आसान तरीके, नहीं होगा फैमिली मेंबर्स से दूरी का अहसास

काम करने की सलाह देने से बचें
बेशक पिता अपनी बेटी से बहुत प्यार करते हैं मगर कई बार समाज और परिवार के दबाव में फादर बेटी को घर के काम करने का परामर्श देने लगते हैं, जिससे बेटी हर्ट हो सकती है. उसके मानसिक विकास पर भी बुरा असर पड़ने लगता है, इसलिए बेटी को जबरदस्ती घर के काम करने के लिए ना कहें.

खाने के लिए न करें मजाक
कई बार पिता मजाक में ही बेटियों को ज्यादा ना खाने की सलाह दे देते हैं. ऐसे में पिता बेटी से अक्सर कहते हैं कि ज्यादा खाने से मोटी हो जाओगी. आपकी ये बात बेटी को बुरी लग सकती है, इसलिए बेटी को खाने के लिए बिल्कुल ना टोकें.

ये भी पढ़ें: कलीग्स के साथ रखना है बेहतर रिलेशन, 5 आसान तरीकों की लें मदद, कुछ ही दिनों में बॉन्डिंग होगी मजबूत

न दें इस बात की सलाह
हंसना सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है मगर कई बार पिता बेटी को हमेशा हंसने की सलाह देते हैं, ताकि लोग उसे ज्यादा पसंद करेंगे. आपकी ये सलाह बेटी पर भारी पड़ सकती है और बिना बात के हंसने की आदत से लोग उसका मजाक उड़ाने लगेंगे, इसलिए बेटी को ये सलाह देने से बचें.

बात-बात पर टोकें नहीं
पिता अमूमन बेटी को लड़कियों के तौर-तरीके फॉलो करने का मशवरा देते हैं. जिससे बेटी निगेविटी का शिकार हो सकती है. ऐसे में बेटियों को भी बेटों की तरह समान आजादी दें और उन्हें बात-बात पर टोंकने की कोशिश बिल्कुल ना करें. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

Tags: Child Care, Lifestyle, Relationship


Leave A Reply

Your email address will not be published.