Take a fresh look at your lifestyle.

Diabetes Prevention | अगर नज़र आएं ये लक्षण, तो आशंका है डायबिटीज की, ज़रूर जानें और वक्त रहते कदम उठाए

0




Diabetes, Health Tips

कैसे पहचानें डायबिटीज का खतरा (सोशल मीडिया)

Loading

सीमा कुमारी

नवभारत लाइफस्टाइल डेस्क: भारत में डायबिटीज (Diabetes) के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही हैं। ऐसे में एक नए शोध में डराने वाले आंकड़े सामने आए हैं जो इस बात की पुष्टि करते हैं कि भारत तेजी से दुनिया का ‘डायबिटीज कैपिटल’ बनता जा रहा हैं। द लैंसेट की हालिया स्टडी के मुताबिक, भारत में 10.1 करोड़ लोग डायबिटीज के मरीज हैं। स्टडी में कहा गया है कि पिछले चार सालों में ही डायबिटीज के मामलों में 44% की बढ़ोतरी हुई है।  

आपको जानकारी के लिए बता दें, डायबिटीज उन घातक बीमारियों में से एक है, जो एक बार शरीर में घर करने के बाद जिंदगी भर खत्म नहीं होती। इसकी कोई सीधी दवा भी नहीं है। इसलिए ब्लड शुगर को कंट्रोल (Blood Sugar Control Tips) कर ही इस बीमारी से बचा और जिया जा सकता है।

लक्षण दिखाई दे तो हो जाए सचेत

हालांकि, डायबिटीज के शिकार होने पर कई सारे लक्षण (Diabetes Sign And Symptoms) दिखाई देने लगते हैं। अगर आपको भी शरीर में यह लक्षण दिखाई दे रहे हैं तो समझ लें कि यह डायबिटीज के संकेत हैं। ऐसे में आइए जान लें डायबिटीज से पीड़ित लोगों को विभिन्न प्रकार के लक्षण महसूस हो सकते हैं, जो रात को भी दिख सकते हैं। रात में महसूस होने वाले डायबिटीज के कुछ लक्षण इस तरह हैं।

यह भी पढ़ें

बार-बार पेशाब आने से पानी की कमी

हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार, डायबिटीज वाले लोगों को अधिक बार पेशाब करने की आवश्यकता हो सकती है, जिसमें रात के समय भी शामिल है। ऐसा इसलिए है क्योंकि शरीर मूत्र में अतिरिक्त ग्लूकोज से छुटकारा पाने की कोशिश कर रहा है। बार-बार पेशाब आने से निर्जलीकरण हो सकता है, जिससे प्यास बढ़ सकती है। मधुमेह से पीड़ित लोगों को पानी पीने के लिए आधी रात में जागना पड़ सकता है।

डायबिटीज का असर आपके पैरों पर भी दिखने लगता है। डायबिटीज में ब्लड शुगर का लेवल हाई होने से पैरों में झुनझुनी सी महसूस होने लगती है। इसकी वजह पैरों में ब्लड फ्लो का खराब होना है। इसके साथ ही डायबिटीज हाई होने पर पैर में चोट लगने पर वह जल्दी से ठीक नहीं होती है।

मसूड़ों की होती हैं बीमारी

एक्सपर्ट्स की मानें तो, डायबिटीज के लक्षण मसूड़ों में भी दिखाई देने लगते हैं। इसकी वजह नसों का बंद होना और खून का गाढ़ा होना है। इससे मसूड़ों में ब्लड फ्लो कम हो जाता है। इसके चलते मांसपेशियां कमजोर हो जाती हैं। इससे बैक्टीरिया भी बढ़ जाते हैं। जो आपके मसूड़ों में बीमारी का कारण बनते हैं। इसमें दर्द भी महसूस होता है।

डायबिटीज वाले लोगों को रात में पसीना आने का अनुभव हो सकता है, जो निम्न रक्त शर्करा स्तर (हाइपोग्लाइसीमिया) के कारण होता है। रात में पसीना आने के साथ अन्य लक्षण भी हो सकते हैं जैसे कंपकंपी, तेज़ दिल की धड़कन और भ्रम।

किडनी हो जाती है डैमेज

डायबिटीज मरीजों में ब्लड शुगर का हाई लेवल किडनी को भी डैमेज कर देता है। इसकी वजह से किडनी में मौजूद छोटी ब्लड नवर्स को ब्लॉक करने लगता है। यह किडनी को बुरी तरह प्रभावित करता है। इसकी वजह से पेशाब में प्रोटीन, पेशाब करने की इच्छा बढ़ना, पैरों, टखनों, हाथों और आंखों में सूजन, मतली, उल्टी और थकान होने लगती है। यह सभी लक्षण हाई डायबिटीज का संकेत देते हैं।




Leave A Reply

Your email address will not be published.