Take a fresh look at your lifestyle.

Chaitra Navratri 2024 | चैत्र नवरात्र में न पहनें इन रंगों के कपड़े ! ‘दुर्गा सप्तशती’ का करें पाठ, इन बातों का करें पालन

0




Chaitra Navratri 2024, Goddess Durga, Lifestyle News

चैत्र नवरात्रि 2024 (डिजाइन फोटो)

Loading

सीमा कुमारी

नवभारत लाइफस्टाइल डेस्क: नौ दिवसीय का महापर्व ‘चैत्र नवरात्र’ (Chaitra Navratri 2024) सनातन धर्म का सबसे महत्वपूर्ण पर्व माना जाता है। इस वर्ष नवरात्र की शुरुआत 9 अप्रैल, 2024 से हो रही है। इन नौ दिनों में साधक माता रानी के नौ रूपों की आराधना करते हैं और व्रत करते हैं। मान्यताओं के अनुसार, नवरात्र के समय में पूरे विधि-विधान के साथ देवी की पूजा करने से साधक को शुभ फलों की प्राप्ति होती है। साथ ही माता रानी की कृपा से व्यक्ति की सभी इच्छाएं भी पूरी होती है। ऐसे में आइए जान लीजिए चैत्र नवरात्रि में किन बातों का विशेष ध्यान रखना बेहद जरूरी है।

इन बातों का रखे ख़ास ध्यान

कलश

यदि आप पूजन के लिए कलश की स्थापना करती हैं तो आपको इसके नियमों का पालन जरूर करना चाहिए। अगर आप कलश में जवारे उगा रही हैं तो ध्यान रखें कि इसे घर के मंदिर की सही दिशा में ही रखें और पूरे विधि-विधान से कलश की स्थापना करें। आप जिस स्थान पर कलश रख रही हैं उसमें किसी तरह की गंदगी नहीं होनी चाहिए। कलश स्थापना हमेशा मिट्टी के प्याले में ही करनी चाहिए।

अखंड ज्योति

यदि आप घर में नवरात्रि के दिनों में अखंड ज्योति प्रज्वलित करती हैं, तो आपको ध्यान देने की आवश्यकता है कि यह कभी भी बुझनी नहीं चाहिए। अखंड ज्योति के लिए आप हमेशा देसी घी का इस्तेमाल करें। इसके साथ भी आपको इस बात का भी ध्यान रखना है कि सुबह और शाम माता की आरती जरूर होनी चाहिए। अगर संभव हो, तो आरती के समय घर के सभी सदस्य मौजूद रहें।

हवन

नवरात्रि में हवन करना जरूरी माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि यदि आप नौ दिनों तक व्रत उपवास करने के बाद हवन नहीं करती हैं तो पूजा स्वीकार्य नहीं होती है। घर के सभी लोग एक साथ मिलकर मंत्रों का जाप करें और घर की समृद्धि के लिए हवन का आयोजन करें।

दुर्गा सप्तशती का पाठ

नवरात्रि के नौ दिनों में आपको नियमित रूप से दुर्गा सप्तशती का पाठ जरूर करना चाहिए। यदि आप पूरा पाठ नहीं कर पाती हैं तब भी दुर्गा कवच का पाठ जरूर करें। कवच का पाठ आपको किसी भी समस्या से बाहर निकालने में मदद करता है और आपको हमेशा सफलता के लिए प्रेरित करता है। खासतौर पर नवरात्रि के दिनों में दुर्गा सप्तशती और दुर्गा कवच का पाठ विशेष फलों की प्राप्ति कराता है।

लाल रंग का विशेष महत्व

चैत्र नवरात्रि के दौरान माता को लाल रंग की सामाग्री अर्पित करने का विशेष महत्व है। यदि आप उन्हें लाल चुनरी चढ़ाती हैं और लाल कुमकुम लगाती हैं, तो आपके लिए फलदायी होगा। यही नहीं, जिस चौकी में माता की मूर्ति या तस्वीर स्थापित कर रही हैं जहां, उसमें भी लाल रंग का कपड़ा बिछाएं। ऐसा करना आपके घर में सकारात्मकता लाने में मदद करता है। इसके अलावा, यदि आप चैत्र नवरात्रि में माता दुर्गा का पूजन कर रही हैं तो आपको कपड़ों का विशेष ध्यान रखना चाहिए। पूजन के दौरान आप लाल, पीले, नारंगी जैसे रंगों का इस्तेमाल करें। ये सभी रंग माता को विशेष रूप से प्रिय हैं और यदि आप माता को चुनरी चढ़ा रही हैं तब भी इन्हीं रंगों की चढ़ाएं।

ध्यान रखें कि आप पूजन के दौरान काले या नीले रंग के कपड़े न पहनें। ये रंग पूजन के दौरान नकारात्मकता ला सकते हैं।




Leave A Reply

Your email address will not be published.