Take a fresh look at your lifestyle.

Chaitra Navratri 2024 | चैत्र नवरात्रि में वास्तु के ये टिप्स बदल सकती है आपकी किस्मत, परिवार में बनी रहेगी खुशहाली

0




Chaitra Navratri 2024, Goddess Durga, Lifestyle News

चैत्र नवरात्रि 2024 (File Photo)

Loading

सीमा कुमारी

नवभारत लाइफस्टाइल डेस्क: जैसा कि आप सभी जानते हैं कि, हिंदुओं (Hindu Religion) के लिए चैत्र नवरात्र (Chaitra Navratri 2024) के पर्व का विशेष महत्व रखता है। इस बार 9 अप्रैल से चैत्र नवरात्र शुरू होंगे और 17 अप्रैल को समापन होगा। वैसे तो, नवरात्रि साल में 4 बार आती है, लेकिन उनमें से 2 नवरात्रि तिथियां सबसे खास मानी जाती हैं।

जानिए कब-कब मनाई जाती हैं नवरात्रि

इनमें से सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण चैत्र और अश्विन महीने की शारदीय नवरात्रि। चैत्र नवरात्रि चैत्र के महीने में मनाई जाती है और इसमें माता दुर्गा के नौ रूपों का पूजन किया जाता है। ऐसे में भक्तों को सलाह दी जाती है कि वो कलश की स्थापना करें और विधि-विधान के साथ माता के अनेक रूपों का पूजन करें।

इन वास्तु उपायों को करना जरूरी

इसके साथ ही यदि आप नवरात्रि के दिनों में कुछ वास्तु उपाय आजमाएंगे तो आपके घर में सदैव खुशहाली बनी रहेगी। ऐसे में आइए जानें कुछ वास्तु उपायों के बारे में जो आपको चैत्र नवरात्रि में आजमाने चाहिए।

1- ज्योतिषियों के अनुसार, नवरात्रि का आरंभ होने के पूर्व ही आप अपने घर की साफ-सफाई जरूर कर लें। हर एक वस्तु और स्थान को व्यवस्थित करें और किसी भी अवांछित वस्तु जैसे पुराने कपड़े, किताबें, फर्नीचर आदि को घर से बाहर निकाल दें। यदि किसी भी कोने में गन्दगी इकठ्ठा है तो उसे तुरंत ही दूर कर दें। इस उपाय से आपके घर में खुशहाली बनी रहती है और समृद्धि के द्वार खुलते हैं।

2- सुख-समृद्धि का प्रतीक ‘अखंड ज्योति’ को माना गया हैं। यदि आप चैत्र नवरात्रि के पहले दिन से ही अखंड ज्योति प्रज्वलित करते हैं तो आपके जीवन में सदैव खुशहाली बनी रहती है। ऐसा माना जाता है कि अखंड ज्योति आपकी समृद्धि का प्रतीक होती है और ये आपके भविष्य के लिए शुभ संकेत देती है।

3- यदि आप अखंड ज्योति स्थापित कर रही हैं तो आपको इस बात का ध्यान जरूर रखना चाहिए कि यह हमेशा कलश के दाहिनी तरफ रखी गई हो। अखंड ज्योति को हमेशा पूजा स्थल की ओर दक्षिण-पूर्व दिशा की तरफ रखना चाहिए।

4- कहते है, नवरात्रि के दौरान यदि आप घर या दुकान के मुख्य द्वार के पास एक बर्तन में पानी भरकर रखती हैं या जल का लोटा मंदिर में रखती हैं तो ये शुभता को आकर्षित करता है। आप घर के मंदिर में कलश की स्थापना भी कर सकती हैं और यह कलश पूजा स्थल पर रखें। आप इस कलश के ऊपर नारियल रखें। यदि आप जल का लोटा प्रवेश द्वार के पूर्व या उत्तर में रखते हैं तो या और शुभ संकेत हो सकता है।

5- घर की समृद्धि बनाए रखने के लिए आप नवरात्रि के पहले दिन आम और अशोक के पत्तों की माला बनाकर मुख्य द्वार पर बांधें। यह आपके घर से सभी नकारात्मक ऊर्जाओं को दूर करने में मदद करता है।

6- नवरात्रि के दौरान माता दुर्गा की मूर्ति की दिशा आपके लिए बहुत मायने रखती है। कभी भी गलत दिशा में रखी मूर्ति की पूजा नहीं करनी चाहिए, बल्कि आपको माता की चौकी की स्थापना करनी चाहिए।




Leave A Reply

Your email address will not be published.