Take a fresh look at your lifestyle.

रूठा है साथी या बात-बात पर देता है झिड़की, टॉक्सिक रिलेशनशिप के हैं संकेत; कहीं आप भी तो नहीं शिकार

0


राहुल दवे/इंदौर. पति-पत्नी और गर्लफ्रेंड-बॉयफ्रेंड का रिश्ता बहुत खास माना जाता है. ये रिश्ता तभी सफल माना जाता है, जब इसमें प्यार और विश्वास के अलावा एक-दूसरे के सम्मान का भी ख्याल हो, लेकिन कभी-कभी इस रिलेशनशिप में छोटी-छोटी बातों को लेकर पार्टनर एक-दूसरे से दूरी बनाने लगते हैं और बिगड़े हुए माहौल के चलते टॉक्सिक रिलेशनशिप के हालात बन जाते हैं.

काउंसलर राजश्री पाठक बताती हैं कि किसी भी रिलेशनशिप को आगे बढ़ाने के लिए सिर्फ प्यार ही जरूरी नहीं, बल्कि कुछ और भी चीजों का रोल बहुत ही खास होता है. छोटी-छोटी बातों पर लड़ना- झगड़ना, हमेशा शक करना, आपको कंट्रोल करने की कोशिश करना…ये ऐसी कुछ आदतें हैं, जो अगर आपके पार्टनर में हैं, तो इसका मतलब आप एक टॉक्सिक रिलेशनशिप में हैं. टॉक्सिक रिलेशनशिप को झेलना फिजिकली और मेंटली दोनों ही लिहाज से खराब है. ये हैं कुछ संकेत…

बात-बात पर लड़ाई-झगड़ा करना
शादी के बाद एडजस्ट होने में वक्त लगता है, लेकिन अगर आपका पार्टनर इसे समझ ही नहीं रहा और हर छोटी-मोटी बात पर लड़ाई का मुद्दा ले आता है, तो ये इशारा करता है कि आप टॉक्सिक रिलेशनशिप में हैं.

यह भी है पहचान
एक-दूसरे के विचारों, इमोशन्स का सम्मान न करना टॉक्सिक रिलेशनशिप की पहचान है. रिलेशनशिप का आधार ही प्यार और सम्मान होता है, तो अगर यही नहीं तो रिलेशनशिप में रहना ही बेकार है.

यह होती है आदत
पार्टनर पर बात-बात पर शक करने की आदत भी टॉक्सिक रिलेशनशिप का संकेत है, जो आपकी फ्रीडम छीन सकती है. अगर आपका पार्टनर आप पर भरोसा नहीं करता, तो पहले तो उससे इसकी वजह जानने की कोशिश करें. फिर रिश्ते को सुधारने का प्रयास करें.

ये सही तरीका नहीं
अगर आपका पार्टनर आपको हर एक काम में कंट्रोल करने की कोशिश करता है, तो ये सही तरीका नहीं. ऐसे रिश्ते में घुटन महसूस होती रहती है. ये आदत हिंसा में भी बदल सकती है.

टॉक्सिक रिलेशन से ऐसे निकलें बाहर
अगर आपका रिलेशनशिप टॉक्सिक बन गया है, तो इसे झेलते न रहें, बल्कि बाहर निकलने की कोशिश करें. साथ ही किसी भी बहाने जैसे प्यार या इगो की वजह से खुद को इससे निकलने से न रोकें.

मदद लेने में न हिचकिचाएं
अगर आपको ऐसा लगता है कि आपका रिश्ता किसी काउंसलर या अन्य व्यक्ति की मदद से सुधर सकता है, तो मदद लेने में हिचकिचाहट महसूस न करें.

किसी को न दें ये हक
आप खुद से प्यार करना सीखें और अपने आत्मसम्मान से किसी भी हालात में समझौता न करें. किसी को भी ये हक न दें कि वह जैसा चाहे आपके साथ बर्ताव कर सकता है.

मन से निकाल दें डर
मन से रिश्ता टूटने, बदनामी या किसी और इंसान के ना अपनाने के डर को निकाल दें. टॉक्सिक रिश्ते से बाहर आने के लिए यह सोचें कि इससे बाहर निकलने के बाद जिंदगी बहुत खूबसूरत हो जाएगी.

Tags: Indore news, Latest hindi news, Local18, Mp news, Relationship, Valentines day


Leave A Reply

Your email address will not be published.